Aman Clinic

आज हम बात करेंगे पुरुषों में होने वाली कामेच्छा की कमी या इच्छाशक्ति की कमी क्यों होती है इस बारे में। उससे पहले जानते हैं इच्छाशक्ति या कामेच्छा की कमी आखिर कहते किसे हैं।

पुरुष जब किसी भी कारण से अपनी पत्नी या साथी महिला पार्टनर से यौन संबंध ( शारीरिक संबंध ) बनाने से बचने लगे, तो हम कहेंगे कि ऐसे पुरुष में इच्छाशक्ति की कमी है। इच्छाशक्ति की कमी होने के पीछे अनेकों कारण हो सकते हैं। जिनमें से कुछ मुख्य कारणों के बारे में हम आज जानेंगे।

इच्छाशक्ति की कमी होने के कारणों के बारे में जाने से पहले इसके लक्षणों के बारे में जान लेते हैं।

कामेच्छा की कमी के लक्षण

इस बीमारी के शुरुआती दौर में पुरुष को पता ही नहीं लगता कि वह इस बीमारी से पीड़ित है।

इस बीमारी के चलते शुरू-शुरू में स्वभाव में चिड़चिड़ापन आना शुरू हो जाता है जो कि समय के साथ बढ़ता रहता है।

अवसाद की स्थिति उत्पन्न हो जाती है। जैसे काम में मन न लगना, पूरा दिन शरीर में आलस बना रहना, जिसके चलते गैस, एसिडिटी बनने लगती है। जिसका बुरा असर हमारे डाइजेशन पर पड़ता है।

इंद्री के तनाव में कमी आने लगती है। जिसे हम इंद्री का ढीलापन भी कहते हैं।

पत्नी या पार्टनर के बार बार कहने पर भी सेक्स करने का मन नहीं करता।

कामेच्छा (इच्छाशक्ति) की कमी के कारण

कामेच्छा की कमी पहले 35 वर्ष या उससे अधिक आयु वर्ग के व्यक्तियों में देखने को मिलती थी। लेकिन आजकल युवाओं में भी दिन प्रतिदिन यह बीमारी बढ़ती जा रही है।

आजकल के युवा भागदौड़ भरी इस जिंदगी में एक दूसरे से आगे निकलने की होड़ में काम का बोझ अधिक लेते हैं, और यह बोझ देखते ही देखते कब डिप्रेशन में बदल जाता है उनको पता ही नहीं चलता कहने का मतलब डिप्रेशन पुरुषों में कामेच्छा की कमी का बहुत बड़ा कारण है।

फास्ट फूड तथा जंक फूड, कोल्ड ड्रिंक्स आदि का अधिक मात्रा में सेवन करना भी इस बीमारी को जन्म देता है।

जानकारी के अभाव में या जाने-अनजाने किशोरावस्था में जो पुरुष अत्यधिक मात्रा में हस्तमैथुन करते हैं, उन्हें भी आगे चलकर इस समस्या का सामना करना पड़ता है, क्योंकि अत्यधिक मात्रा में किया गया मैथुन आगे चलकर नसों की कमजोरी का कारण बनता है।

पत्नी या पार्टनर की सेक्स के प्रति उदासीनता भी इस बीमारी का एक मुख्य कारण है।

बढ़ती उम्र भी इसका एक मुख्य कारण है क्योंकि उम्र के एक पड़ाव पर आदमी का सारा ध्यान बच्चों की शिक्षा और घर की जरूरी चीजों को जुटाने की ओर अधिक हो जाता है। जिसके चलते भी उसके अंदर कामेच्छा की कमी का होना स्वाभाविक बात है।

कामेच्छा की कमी को दूर करने के घरेलू उपचार

सभी तरह के तनाव से मुक्त रहें।

फास्ट फूड, कोल्ड्रिंक्स तथा किसी भी प्रकार के नशे के सेवन से बचें।

अपने डाइजेशन को बेहतर बनाएं। इसके लिए सुबह की सैर तथा योगासन अवश्य करें। फाइबर युक्त आहार लें यह आपके डाइजेशन को बेहतर बनाने में मदद करेगा।

अपनी पत्नी या साथी पार्टनर से कनेक्ट रहें। छोटी-छोटी बातों का ख्याल रखें, उनकी जरूरतों को समझें। जितना ज्यादा आपसी संबंधों में मधुरता रहेगी उतना ही आपके लिए अच्छा रहेगा।

कामेच्छा (इच्छाशक्ति) की कमी होने पर कहां पर दिखाएं या कहां से इलाज कराएं।

कामेच्छा की कमी होने पर घबराए नहीं इसका इलाज संभव है आप अपने नजदीकी सेक्सोलॉजिस्ट को दिखाएं या आप अमन क्लीनिक जोकि पानीपत हरियाणा में स्थित है। पर आकर डॉ रवि कपूर से अपना चेकअप कराएं। डॉ रवि कपूर को यौन रोगों का इलाज करने में महारत हासिल है। डॉ रवि कपूर ने न जाने कितने ही ऐसे लोगों को एक नई ऊर्जा और शक्ति दी है। जो अपने वैवाहिक जीवन से निराश हो चुके थे। यहां से इलाज कराने के बाद अनेकों दंपत्ति अब अपने वैवाहिक जीवन का आनंद ले रहे हैं।

अतः आप भी इच्छा शक्ति की कमी या अन्य किसी योन रोग जैसे- धात, स्वप्नदोष, शीघ्रपतन से पीड़ित हैं, तो एक बार अमन क्लीनिक पर आ कर अपना चेकअप अवश्य कराएं।

मैसेज कर सकते है।

अधिक जानकारी के लिए आप हमें 8950400073

  • info.amanayurvedicclinic.com
  • 10:00 AM – 18:00 PM
  • Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *